रविवार, 15 जुलाई 2018

6 Harmful Effects of Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi)(HINDI)

पेप्सी बोली सुन कोककोला ,
भारत का इंसान है भोला।
विदेश से मैं आईं हूँ ,
मौत साथ में लाईं हूँ।
लहर नहीं ज़हर हूँ मैं ,
गुर्दों पर गिरता कहर हूँ मैं।
पीएच मान मेरा दो पाइंट सात ,
गिरें जो मुझमें गल जाएँ दांत।
ज़िंक आर्सेनिक लेड हूँ मैं ,
काटे आँतों को वो ब्लेड हूँ मैं।
दूध मुझसे बहुत ,सस्ता है ,
पीये मुझे जो उसकी हालत खस्ता है।
५४० करोड़ कमाती हूँ ,
विदेश में ले जाती हूँ।
मैं पहुंची हूँ आज वहां पर ,
पीने को नहीं जल भी जहां पर।
महंगा पानी मैं सस्ती हूँ ,
रहती अपनी मस्ती मैं हूँ।
छोड़ नकल अब अक्ल से जियो ,
'
जो भी पियो भाई सम्भलके पियो।
नीम्बू नीर पियो मेरे भैया ,
छोड़ पेप्सी कोक मेरे भैया।
पार लगेगी तुमरी नैया।
सबका है यहां कृष्ण खिवैया।

यकीन मानिये प्यास शीतल जल से ही बुझती है चीनी भरी सोडा उसे भड़काती है। फिर दिल करता है जल मिल जाए शुद्ध शीतल जल घड़े सुराही का ठंडा पानी। 

याद रखिये :

(१ )कैफीन ,एसपारटेम ,और परिष्कृत शक्कर (शुगर )की तिकड़ी का डेरा है इन पेयों में ,जो अपेय ही कहे जायेंगे।इनमें से एसपारटेम अनेक रोगों की वजह बनता देखा गया है इसीलिए कथित सॉफ्ट ड्रिंक्स (सोडा )को लेकर कई विकसित देशों में निर्माता कंपनियों के खिलाफ मुकद्दमे  चल रहें हैं वहां की अदालतों में। अलावा इसके कैफीन और परिष्कृत सुगर एक लती कारक खाद्य हैं । अमरीकी बच्चों को किशोरावस्था में प्रवेश लेते लेते ब्रेसेस लग जाते हैं। चेहरा खूबसूअरत मुक्तावलि बदशक्ल। 
मधुमेह का गढ़ बनता जा रहा है अमरीका इसी लत के पीछे पीछे। 

(२ )किडनी फेलियोर की अनेक वजहों में से एक बड़ी वजह बेहद मीडिया हाइप किया गया डाइट ड्रिंक बन रहा है फिर चाहे वह कैसा भी कोला हो ,कोयला ही है।बीमारी है जिसे आप पैसे देकर खरीद रहे हैं।

(३ )किसी भी वर्कआउट के बाद मशक्कत  का काम या व्यायाम कैसी भी थकाऊ कसरत के बाद गुनगुने गर्म पानी का सेवन आपकी  कैलरी बर्न करने की रफ़्तार को बढाए रहता है। चीनी लदे सॉफ्ट पेय इसे शीथिल बना देते हैं घटा देते हैं अलावा इसके हमारे शरीर में से चर्बी को जलाने वाले एन्ज़ाइम्स का देखते देखते ही सफाया कर देते हैं। बस हो गया आपका स्रावी तंत्र नाकारा। लो कल्लो बात :सोडा  पीने  वालों की बात ही कुछ और है।दिल करता है प्यास बुझे। 

(४ )चोली दामन के संगी मोटापा और मधुमेह (ओबेसिटी एन्ड डायबिटीज ):सोडा बोले तो  ऐरेटिड कोला ड्रिंक्स के बढ़ते चलन के साथ मोटापा और मधुमेह भी साथ -साथ रहते हैं हमारे  . 

मोटापा सब रोगों की अम्मा है तो मधुमेह उस अम्मा की भी अम्मा है :दिल फेफड़ा गुर्दे सब इस दुरभिसंधि के लपेटे में आ जाते हैं। मधुमेह ग्रस्त लोगों को खासकर इस पेयों से छिटकना चाहिए। खून में मंडराती शक्कर का स्तर झटपट दोगुना हो जाता है इन कोला पेयों के डकारने के तुरत बाद। 
अधुनातन शोध का इशारा रहा आया है :कैंसर पैदा करने वाली कोशाओं को भी बढ़ावा देतें हैं ये पेय। 
(५ )मुक्तावलि और अस्थियों की खैर नहीं :

हाइड्रोजन पोटेंशिअल  बोले तो pH 3.2 है इन कोला पेयों का उस नियत पैमाने पर रहता जो ये तय करता है के कोई पेय अम्लीय(एसिडिक ) है या क्षारीय (एल्कलाइन ). बस दन्तावली के साथ ये तेज़ाबी स्तर खुलके खेलता है। दांतों की आब इनेमल ले उड़ता है कोला। खोखला बना देता है दांतों को। 
(६ )कोला केस कोला कैन्स सुरक्षित भी नहीं हैं इन पेयों की सेल्फ लाइफ के लिए। इनकी दीवारों से ऐसे घटक रिसते  हैं जो प्रजननं संबंधी समस्याएं इनके लगातार सेवन और लत से पैदा होतीं हैं। 
What Does pH Stand For?
Have you ever wondered what pH stands for or where the term originated? Here is the answer to the question and a look at the history of the pH scale.
Answer: pH is the negative log of hydrogen ion concentration in a water-based solution. The term "pH" was first described by Danish biochemist Søren Peter Lauritz Sørensen in 1909. pH is an abbreviation for "power of hydrogen" where "p" is short for the German word for power, potenz and H is the element symbol for hydrogen. The H is capitalized because it is standard to capitalize element symbols. The abbreviation also works in French, with pouvoir hydrogen translating as "the power of hydrogen"
https://www.healthy-drinks.net/6-harmful-effects-of-drinking-coca-cola-coke-or-pepsi/

6 Harmful Effects of Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi)

Jogged, walked, worked, and feeling tired ? A soft drink refreshes the body instantly. The magic of the fizz seems to soothe the nerves and the mind at such times. And so consequently, according to studies, about 90% of moderate income population prefers soft drinks like Coca Cola or Pepsi after a tiring day.
What is this drink ? 
Coca Cola and Pepsi are such products that have been scrutinized by the environment and human rights department for inducing bad and unhealthy food products. The brands are symbolic of all soft drinks that are nothing but sugar or artificially sweetened sodas with color.
Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi – Side Effects
The trend of having these beverages increased with the introduction of Diet versions. These versions claim to have no added sugar which can keep a check on the weight factor. Teenagers and women, especially, have been reported to consume this product ever more than before.
With a number of more companies coming up with similar products, the researches done by some of the universities seem to be undone. However, if you are reading this article be sure about certain facts before touching your lips to another can of Coca Cola or Pepsi.

Harmful Effects of Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi

The particulars mentioned here are merely the reproductions of the results concluded by some of the known universities around the world. It has been observed that consumption of soft drinks must be checked as soon as possible.
A glass of cold water can be less attractive but is much healthier and better choice in terms of survival. It is always better to prevent than to cure.
1) Caffeine, Sugar and Aspartame: These products are invariably present within the sweetened soft drinks. Coca Cola and Pepsi have been under lawsuits in some of the developed countries against using Aspartame which causes several diseases. Children should be strictly restricted from consuming products with Aspartame. Furthermore, caffeine and sugar are very addictive leading to another set of diseases like diabetes and a life-long habit of inducing caffeine in the body.
2) Kidney Failures: The sweet sugar is definitely not the reason for a failing kidney but the artificial sweeteners are. Hence consuming Diet versions of Coca Cola or Pepsi have proved to produce more impairment than the sweet versions.
3) Metabolism Level Decreases: A glass of warm water can speed up you metabolic rate but may taste awful after a workout session. A can of Coke can surely be tasty but it really decreases the metabolism and helps in destroying the fat burning enzymes in no time. Thus a can of either Diet Coke or simple Coca Cola after a rigorous workout or busy day is strictly not advisable.
4) Obesity and Diabetes: Obesity was never a major problem when Coca Cola or similar products were not introduced. But with an advent of these products, a major portion of the population is turning obese which includes children and teenagers.
Obesity is the root of diseases that affect heart, lungs, and kidney. Researches have also been proving that obesity may be a cause to trigger cancer cells.
Similarly, patients with diabetes must never touch beverages like Coke or Pepsi since it increases level of sugar in blood by twofold. Non-diabetic persons should avoid these drinks in order to keep diabetes away.
5) Teeth and Bone Damage: The pH level of Coke or Pepsi is 3.2 which are quite high. This pH level decides the acidic nature of a liquid. Hence these beverages are acidic in nature and can dissolve bones and enamels very quickly.
6) Reproduction problems: A research has shown that the cans of Coke or Pepsi are coated with such chemicals that may lead to reproduction problems with regular consumption.

Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi - Side Effects
Drinking Coca Cola (Coke) or Pepsi – Side Effects

मंगलवार, 10 जुलाई 2018

Every Person Has a Unique Brain Anatomy

Every Person Has a Unique Brain Anatomy

Share via AddThis
Posted Today

Like with fingerprints, no two people have the same brain anatomy, a study by UZH researchers has shown. This uniqueness is the result of a combination of genetic factors and individual life experiences.

Three brain scans (from the front, side and above) of two different brains (pictured on the left and on the right) belonging to twins. The furrows and ridges are different in each person. (Image: Lutz Jäncke, UZH)
The fingerprint is unique in every individual: As no two fingerprints are the same, they have become the go-to method of identity verification for police, immigration authorities and smartphone producers alike. But what about the central switchboard inside our heads? Is it possible to find out who a brain belongs to from certain anatomical features? This is the question posed by the group working with Lutz Jäncke, UZH professor of neuropsychology. In earlier studies, Jäncke had already been able to demonstrate that individual experiences and life circumstances influence the anatomy of the brain.

Experiences make their mark on the brain

Professional musicians, golfers or chess players, for example, have particular characteristics in the regions of the brain which they use the most for their skilled activity. However, events of shorter duration can also leave behind traces in the brain: If, for example, the right arm is kept still for two weeks, the thickness of the brain’s cortex in the areas responsible for controlling the immobilized arm is reduced. “We suspected that those experiences having an effect on the brain interact with the genetic make-up so that over the course of years every person develops a completely individual brain anatomy,” explains Jäncke.

Magnetic resonance imaging provides basis for calculations

To investigate their hypothesis, Jäncke and his research team examined the brains of nearly 200 healthy older people using magnetic resonance imaging three times over a period of two years. Over 450 brain anatomical features were assessed, including very general ones such as total volume of the brain, thickness of the cortex, and volumes of grey and white matter. For each of the 191 people, the researchers were able to identify an individual combination of specific brain anatomical characteristics, whereby the identification accuracy, even for the very general brain anatomical characteristics, was over 90 percent.

Combination of circumstances and genetics

“With our study we were able to confirm that the structure of people’s brains is very individual,” says Lutz Jäncke on the findings. “The combination of genetic and non-genetic influences clearly affects not only the functioning of the brain, but also its anatomy.” The replacement of fingerprint sensors with MRI scans in the future is unlikely, however. MRIs are too expensive and time-consuming in comparison to the proven and simple method of taking fingerprints.

Progress in neuroscience

An important aspect of the study’s findings for Jäncke is that they reflect the great developments made in the field in recent years: “Just 30 years ago we thought that the human brain had few or no individual characteristics. Personal identification through brain anatomical characteristics was unimaginable.” In the meantime magnetic resonance imaging has got much better, as has the software used to evaluate digitalized brain scans – Jäncke says it is thanks to this progress that we now know better.

Literature:

Valizadeh, S. A., Liem, F., Mérillat, S., Hänggi, J., & Jäncke, L. (2018). Identification of individual subjects on the basis of their brain anatomical features. Scientific Reports, April 4, 2018. DOI:10.1038/s41598-018-23696-6

https://www.technology.org/2018/07/10/every-person-has-a-unique-brain-anatomy/

सोमवार, 2 जुलाई 2018

धोती चप्पल दीदी जी | ऐसा कर्म नसीबी जी ||

बस यूं ही आहत मन से भारत धर्मी समाज के प्रमुख डॉ.  नंद लाल मेहता वागीश जी से मन की व्यथा कही थी।"" 'पूजा' को प्रतिबंधित करतीं कोलकाता में दीदी जी ,चप्पल धोती दीदी जी।"" ताकि मोहर्रम का जुलूस शांति से निकल जाए फिर चाहे जो हो सो हो ....और बस वागीश जी ने पूरा इतिहास उड़ेल दिया ,राष्ट्रीय उद्बोधन के संग -संग कर्तव्यबोध से च्युत दिखती दीदी जी को उनका कर्तव्य भी याद करवा दिया बंगला गौरव भी उनका दुर्गेश रूप भी। इस कविता के माध्यम से जो हुंकार बन के उठी है और करुणा से संसिक्त हो प्रार्थना  के स्वरों में ढ़ल गई है : 

धोती चप्पल दीदी जी | 

ऐसा कर्म नसीबी  जी || 
               (१ )
झांसी झपटी अंग्रेज़न  पर ,

टूट पड़ी तुम कमरेडन पर | 

कमर तोड़ दी उनकी ऐसी ,

अब तक करते सी सी सी || 

मत भूलो कोलकाता है ,

भारत गर्व सुहाता है ,

माँ गौरी और माँ काली ,

इन के बिन क्या बंगला री | 

इनकी आस -निरास करोगी ,

तुष्टि हेतु घास चरोगी | 

काम न आएं चाँद सितारे ,

सूरज का उपहास करोगी | 

राजनीति यह छिछली जी ,

कुछ तो सोच करो सीधी | 

धोती चप्पल दीदी जी ||  

           (२ )

कोलकाता का अपना मानक ,

अपना वेष और अपना बानक | 

मिल -फोटो में जल्दी क्या थी ,

माया -जीव देख लिपटी -सी | 

ईस्ट इंडिया भारत आई ,

मॉम इठलिया साथ जमाई | 

पर के सपने ,सपने हैं ,

अपने तो फिर अपने हैं। 

राम ,रवींद्र ,नरेन काली ,

भाषा कितनी मधुराली | 

करो न ऐसा ,रूठे काली ,

आज की कुर्सी कल खाली | 

फिर क्या बैठ करीसी जी ,

इतनी समझ करीबी जी | 

धोती चप्पल दीदी जी ||  

           (३ )

वोट बड़ा या देश बड़ा ! 

मन का प्रश्न कहीं गहरा | 

देश बचा तो प्यार मिलेगा ,

ज्यों वर्षा -जल -भीगी जी | 

धोती चप्पल दीदी जी | | 

प्रस्तुति :वीरुभाई (वीरेंद्र शर्मा ),पूर्व -व्याख्याता भौतिकी ,यूनिवर्सिटी कॉलिज ,रोहतक एवं प्राचार्य राजकीय स्नाक्तोत्तर कॉलिज ,बादली (झज्जर ),हरयाणा 





बुधवार, 27 जून 2018

ये वही लोग हैं जो कहते तो अपने को नबी का गुलाम हैं लेकिन गुलामी इटली वाली बीबी की करते हैं

सोशल मीडिया पर खालिस्तान पाकिस्तान ज़िंदाबाद करवाने वाले छद्म विडिओ कौन इम्प्लांट करवा रहा है इसे बूझने के लिए विशेष कोशिश नहीं करनी पड़ेगी। ये वही लोग हैं जो कहते तो अपने को नबी का गुलाम हैं लेकिन गुलामी इटली वाली बीबी की करते हैं वह जिसे न सिख गुरुओं की परम्परा का बोध है न सर्वसमावेशी  सनातन धर्मी धारा का। 

उसी की लिखी पटकथा का मंचन करते रहते हैं सैफुद्दीन सोज़ और नबी गुलाम आज़ाद और फिर यकायक शीत निद्रा में चले जाते हैं। 

बानगी देखिये  व्हाटऐप्स पर प्रत्यारोप किये एक विडिओ की :" एक छद्म सरदार  के आगे दो माइक्रोफोन हैं जिन पर वह इनकोहिरेंट स्पीच परस्पर असंबद्ध बातें एक ही साथ बोल रहा है। खालिस्तान, १९८४ के दंगे ,मुसलमान दुनिया भर में इतने हैं के वे पेशाब कर दें तो तमाम हिन्दू उसमें डुब जाएँ "  

कहना वह ये चाहता है खलिस्तानी उस पेशाब में तैर के निकल जायेंगें। 

ज़ाहिर है ये सरदार नकली था। इटली वाली बीबी का एक किरदार था। असली होता तो गुरुगोविंद सिंह की परम्परा से वाकिफ होता जिन्होंने औरग़ज़ेब के पूछने पर कहा था -हिन्दू है मज़हब हमारा। असली सरदार होता तो गुरु अर्जन देव की कुर्बानी से मतिदास के ज़ज़्बे से वाकिफ होता। 

ये वही इटली वाली बीबी है जिसनें ठगबंधन को कर -नाटक में समर्थन तो दे दिया लेकिन चै चै चीं चीं अभी तक रुकी नहीं है। ये वही बीबी है जो सिख और जैनियों को सनातन धर्म से छिटका कर अब कर -नाटक में लिंगायत में अलहदगी के बीज बो रही है। 

रणदीप सिंह सुरजेवाला इन्हीं बीबी का अजेंडा बढ़ा रहे हैं। ये चेहरे परस्पर भले अलग दीखते हों एक ही पटकथा के किरदार हैं : सोज़ सैफुद्दीन ,गुलाम नबी आज़ाद (?)और रणदीप सिंह सुरजेवाला।  

शनिवार, 23 जून 2018

चीनी तक आते आते गन्ने से पोषक तत्वों का ..... सफाया ?

चीनी तक आते आते गन्ने से पोषक तत्वों का ..... सफाया ?


गन्ना चूसना जहां दन्तावली का व्यायाम है वहीँ शरीर को तमाम किस्म के आवश्यक खनिज लवण (Minerals )मयस्सर हो जाते हैं। गुड़ (Jaggery and jaggery powder )भुने हुए चने (Roasted gram )हीमोग्लोबिन को बढ़ाते हैं नियमित सेवन से।

 गन्ने की छोटी बहन शक्कर (लाल भूरे  रंग की  )भी खनिजों से भरपूर बनी रहती है। पीली बूरा तक सब ठीक है। लेकिन सफ़ेद बूरा और फिर खांड से भी आगे चीनी तक आते आते परिष्कृत सफ़ेद चीनी से पोषक तत्वों का सफाया हो लेता है। परिष्कृत चीनी का सेवन शरीर से पोषक तत्व निकाल बाहर करता है।

अक्सर शक्कर को भी लोग चीनी समझे रहते हैं कई तो वाकिफ ही नहीं हैं शक्कर से (गुड़ वाली शक्कर )कहकर  दू -

कानदार को भी समझाना पड़ता है।

Leaching of minerals takes place from the body by constant use of refined sugar ,(white sugar )  .

A  one liter can (and or bottle )of coke contains about sixteen tea spoonful of sugars .

Glycemic Index of refined sugar is highest ,it quickly shows in the blood.

Brown sugar may retain upto 50 p.c of micro -nutrients.But refined sugar (simple sugar )is devoid of it .The G.I of brown sugar is also relatively low .

बुधवार, 30 मई 2018

क्या महाठगबंधन के पास एक भी मोदी है

जनता को सिर्फ मोदी विरोध नहीं कार्यक्रम और मुद्दे चाहिए। गठबंधनियाँ राजनीतिक पार्टियां  कांग्रेस के सबसे अल्पबुद्धि उस बालक के नेतृत्व में शामिल नहीं दिखना चाहतीं जिस अबुध कुमार ने मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए -२ का निर्णय रद्दी कागज़ की तरह फाड़ दिया। 

ज़ाहिर है जनता  उस षड़यंत्र का हिस्सा नहीं दिखना चाहती जिसकी पटकथा पाकिस्तान जाकर लिखवाई जाती है और कहा जाता है मोदी हटाओ हमें लाओ। 

क्या महाठगबंधन  के पास एक भी मोदी है जो निष्काम भाव से देश हित में २४x ७ x३६५ काम करने की क्षमता और जिगर रखता हो। अगर नहीं तो बजाते रहो गठबंधन की डुगडुगी। और है तो उसे आगे लाओ। भारतधर्मी समाज स्वागत करेगा। वरना अपने आप चुल्लू भर पानी में डूब मरो.  

मंगलवार, 29 मई 2018

नाटक तो अब कर्नाटक में शुरू हुआ है।अभी तक विदूषक की ही मंच पे आवाजाही थी

मनमोहन -२ 

उतना लाचार नहीं है कर -नाटक का मनमोहना-२  जितना की मनमोहना -१ था, तकरीबन -तकरीबन ज़र खरीद गुलाम सा.उसी की सरकार के निर्णय को कांग्रेस के सबसे अल्पबुद्धि राजकुमार ने फाड़ के फैंक दिया था। तब एक शायर ने इस स्थिति पर कहा था :

ज़ुल्म की मुझपर इंतिहा कर दे ,

मुझसा बे -जुबां फिर कोई मिले न मिले। 

  नाटक तो अब कर्नाटक में शुरू हुआ है।अभी तक विदूषक की ही मंच पे आवाजाही थी। 

कुमार -सामी (आसामी नहीं )अपने पिता -श्री  -जी के साथ हुई बदसुलूकी भूले नहीं हैं। गौड़ा -देव-जी  अभी जीवित है। मल्लिका से पाई -पाई का हिसाब लिया जाएगा। 

कैसी दया ?दया और मल्लिका ?

ये राजनीति की उलटबासी है दोस्तों। मंत्रालय बन ने दो।